इस तरह नींद की आगोश में जा पहुंचा हूँ
जैसे बच्चा कोई आँचल में दुबक जाता है।।

Comments

Popular posts from this blog

रेप और बलात्कार

भोजपुरी लोकगीत --गायक-मुहम्मद खलील