भोजपुरी

उ गोड़ उठा के मुतेलन।
एसे बड़ मनई कहावेलन।।

बेटी पतोहि के बुझत बा
जब महतारी ना बुझेलन।।

के कहे बुढ़ौती आय गईल
उ दउड़ के पाला बदलेलन।।

पहिले रहले जउने दल में
अब ओही के गरियावेलन।।

Comments

Popular posts from this blog

रेप और बलात्कार

शरद पवार को जबाब देना होगा