नये साल पर

साल बदल जाने से ऐसा क्या होगा।
कल का दिन भी बीते कल जैसा होगा।।
हम ढलते सूरज को भी जल देते हैं
तुमने उगता सूरज ही पूजा होगा।।
हम सर्वे भवन्तु सुखिनः कहने वाले
नए वर्ष में भी यह ही कहना होगा।।
जो पीछे छूट गए उनको भूलूँ कैसे
नव आगत का स्वागत तो करना होगा।।

Comments

Popular posts from this blog

रेप और बलात्कार

भोजपुरी लोकगीत --गायक-मुहम्मद खलील