Posts

Showing posts from September, 2009

अपरिभाषित

देखो ना ये वही जगह है
जहाँ मिला करते थे हम तुम
मगर अब यहाँ बाग नहीं है
आमों के वह पेड़ नहीं हैं
महुवे की वह गन्ध नहीं है

आज यहां अपना मकान है
कितना ऊँचा कितना प्यारा
अगर प्रेम हो रह सकता है
जिसमें अपना कुनबा सारा

यहीं कहीं पर हम दोनो ने
एक दूसरे को चाहा था
तुमने अपनी गुडिया को जब
मेरे गुड्डे से ब्याहा था

तुमको शायद स्मृत होगा
इसी जगह पर खुश होते थे
सींको के हम महल बनाकर
और आज इस रंगमहल में
वही नहीं है
सूनी सूनी दीवारें हैं
खुशी नहीं है
वही नहीं है जिसको पाकर
हम अनुबन्धित हो सकते थे
जो सपने हमने देखे थे
वह सपने सच हो सकते थे

आज तुम्हारी आँखों मे कोई विस्मय है
लोक-लाज से, शील-धर्म से प्रेरित भय है
मै अवाक! होकर, औचक यह सोच रहा हूं
तुम तुम हो या कोई और इसमे संशय है

लिंग-भेद तो सम्पूरक है,आवश्यक है
सत है, चित है, सदानन्द है
सहज योग है, स्वयम सृष्टि है
बचपन में हम अनावृत ही
साथ पले है, साथ बढे़ है

और आज परिधान सुशोभित
देह-यष्टि है हम दोनो की
पर समाज ने अपने वैचारिक स्तर से
नग्न सत्य की किसी क्रिया को
सोच लिया है
जो शाश्वत है,ईस्वरीय है
उसे अनैतिक मान लिया है

आओ हम यह छद्म आवरण करे तिरोहित
रुढि-रीतियों की जंजीरों को पिघला दे…

पत्र

तुमसे दूर यहाँ पर डेरा
अर्थहीन है सांझ सवेरा
मेरी भटकन दून नगर में
मन का लगता तुम तक फेरा
तुमसे....
साथ तुम्हारे सदा सरसता
बिना तुम्हारे हाय विवशता
तुम बिन मुझे अकेला पाकर
नीरसता ने डाला घेरा....
तुमसे....
हूं विदेह संकेत समझना
भूल गया हूं आपा अपना
तुम बिन इस यायावर मन का
देह बनी है रैन बसेरा......
तुमसे.......
तुमसे केवल एक निवेदन
यथा शीघ्र हो पत्र भेजना

पत्र तुम्हारा धैर्य-दीप बन
किन्चित कर दे दूर अन्धेरा....

...तुमसे दूर यहाँ पर डेरा
अर्थहीन है सांझ सवेरा.....॥

स्व: सतीश पाण्डेय को समर्पित!

मेरी खुशियां न छीन ले कोई

मेरी खुशियां न छीन ले कोई
एहतियातन उदास रहता हूं!

फ़कीराना मिजाज है लेकिन
बारहा गमशनास रहता हूं!