भोजपुरी लोकगीत --गायक-मुहम्मद खलील

अमवा के बारी में बोले रे कोयिलिया ,आ बनवा में नाचेला मोर|
पापी पपिहरा रे पियवा पुकारे,पियवा गईले कवने ओर निरमोहिया रे,
छलकल गगरिया मोर   निरमोहिया रे,छलकल गगरिया मोर||...........छलकल ....
सुगवा के ठोरवा के सुगनी निहारे,सुगवा सुगिनिया के ठोर,
बिरही चकोरवा चंदनिया निहारे, चनवा गईले कवने ओर निरमोहिया रे,.छलकल ....
नाचेला जे मोरवा ता मोरनी निहारे जोड़ीके सनेहिया के डोर,
गरजे बदरवा ता लरजेला मनवा भीजी जाला अंखिया के कोर   निरमोहिया रे,.छलकल ....
घरवा में खोजलीं,दलनवा में खोजलीं ,खोजलीं सिवनवा के ओर ,
खेत-खरिहनवा रे कुल्ही खोज भयिलीं,    पियवा गईले कवने ओर निरमोहिया रे,   छलकल ....

Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

रेप और बलात्कार

शरद पवार को जबाब देना होगा