तुम्हारी ज़िन्दगी है खूबसूरत।
तुम्हे हो अब मेरी क्यूँकर ज़रूरत।।

मैं बोलूं या न बोलूं क्या गरज है
तुम्हे तो चाहिए माटी की मूरत।।

मुहब्बत में तुम्हारी बेरुखी से
न जाने टल गए कितने महूरत।।

अगर इस पर भी हम तुम मिल गए तो
इसे कहना विधाता की कुदूरत।।

Comments

Popular posts from this blog

रेप और बलात्कार

भोजपुरी लोकगीत --गायक-मुहम्मद खलील