गाँव के बहुत पेड़ अब नहीं है
मुहब्बत की जड़ें भी मर चुकी हैं
यहाँ था गांव का बरगद पुराना
तरक्की की हवा से गिर गया वो
विधायक जी ने कब्जा कर लिया है
हाँ उनके भी अब कुछ दिन बचे हैं
वहां बैठक है बड़के चौधरी की
बुलेरो है ,कई डम्फर खड़े हैं
वो बड़का घर तो कब का गिर चुका है
पलानी छा के सारे रह रहे हैं
अब साहू जी प्रधान हो गए हैं
शंकर फिर खेत रख दिया है
मनरेगा में काम मिल गया है
चार आना परधान जी लेते हैं
इमनदारी से पैसा दे देते हैं
अरे अब गांव बहुत बढ़ गया है
दारू की दुकान भी  खुल गयी है।।

Comments

Popular posts from this blog

रेप और बलात्कार

शरद पवार को जबाब देना होगा