मैं मौसम की बातें कहाँ तक चलाता।
उसे प्यार करना न आया न आता।।

न मिलना न खुलना न बिंदास होना
मैं आखिर अलिफ़ बे कहाँ तक सिखाता।।

Comments

Popular posts from this blog

रेप और बलात्कार

शरद पवार को जबाब देना होगा

सेना को हर बार बधाई