ज़िन्दगी क्या है किराये का कोई घर ही तो है।
और मकाँ-मालिक भी अपना बेदर-ओ-दर ही तो है।।
इस पे इतराना कहाँ की अक्लमंदी है कहो
मानता एक दिन सभी से घर छुड़ाकर ही तो है।।

Comments

Popular posts from this blog

रेप और बलात्कार

भोजपुरी लोकगीत --गायक-मुहम्मद खलील