हम कहाँ ऐसे खुशनसीबों में।
जिनको गिनता है तू करीबों में।।
 जो रक़ाबत हमारी करते हैं
हैफ वो हैं मेरे हबीबों में।।
तेरी ख़ातिर महल बना देते
हम न होते अगर गरीबों में।।
आज के दौर में वफ़ा वाले
गिने जाते हैं कुछ अजीबो में।।
वक्त रहते सम्हल गए वरना
हम भी दिखते तुम्हे सलीबों में ।।

Comments

Popular posts from this blog

रेप और बलात्कार

शरद पवार को जबाब देना होगा