उम्र भर साथ निभाने वाले।
हैं तो किरदार फ़साने वाले।।

सोने–चाँदी में नहीं बिकते हैं
दौलते–दिल को लुटाने वाले।।

अच्छे दिन अब नहीं आने वाले।
दिन गए गुजरे ज़माने वाले।।

दौरे–हाजिर तो नहीं दिखते हैं
रस्मे उल्फ़त को निभाने वाले।।

मुड़ के इक बार तो देखा होता
राह में छोड़ के जाने वाले।।

अब तो काजल से जलन होती है
मुझकोआँखों में बसाने वाले।।

Comments

Popular posts from this blog

रेप और बलात्कार

भोजपुरी लोकगीत --गायक-मुहम्मद खलील