आज हम पर इतने पहरे हो गए।
हम कलम से गूंगे बहरे हो गए।।
नाम क्या हमने तुम्हारा लिख दिया
खत के हर अक्षर सुनहरे हो गए।।
बाद मुद्दत के मिले तो इस तरह
घाव दिल के और गहरे हो गए।।
आज की शिक्षा से हमको क्या मिला
गुम पहाड़े और ककहरे हो गए।।
जाने क्या तुमने करी चारागरी
दर्द से हम और दोहरे हो गए।।

Comments

Popular posts from this blog

रेप और बलात्कार

शरद पवार को जबाब देना होगा

सेना को हर बार बधाई