कोशिश की जाए तो कल भी हो सकता है।
उस तट पर जंगल मंगल भी हो सकता है।।
श्वेत ताज के साथ साथ गर कोशिश हो तो
आबनूस सा ताजमहल भी हो सकता है।।
जितना तुमने लूटा दिया उससे गंगा क्या
यमुना का पानी निर्मल भी हो हो सकता है।।
आज कोई उन्मादी अट्टहास करता है
कल का अधिनायक पागल भी हो सकता है।।
आज सैम तुमको जाफर जयचंद मिले हैं
कल भारत ऊधम बिस्मिल भी हो सकता है।।

Comments

Popular posts from this blog

रेप और बलात्कार

शरद पवार को जबाब देना होगा

सेना को हर बार बधाई