सभी सही रहे मैं ही गलत रहा शायद।
तभी तो हर सजा मैं ही भुगत रहा शायद।।
उन्हें पता था कि मैं बेगुनाह हूँ फिर भी
न बोलने की वजह मौनव्रत रहा शायद।।

Comments

Popular posts from this blog

रेप और बलात्कार

शरद पवार को जबाब देना होगा

सेना को हर बार बधाई