मुझे मंदिर मुझे मस्जिद मुझे गिरजा न जाने दो।
जहाँ इंसान बसते हों ,वहीँ पर घर बनाने दो।।
समझते हों जहाँ पर लोग केवल प्रेम की भाषा
वहीँ पर मौन रहकर गुनगुनाने मुस्कुराने दो।।
न उसको रोकना बेहतर न उसको टोकना अच्छा
अगर आता है आने दो नहीं आता है जाने दो।।
हमारी उम्र आधी कट चुकी है तुमको मालूम है
न सोचो अब तो बंधन वर्जनाएं टूट जाने दो।।
मुझे झूठी तसल्ली दी सभी ने ये ही कह कह कर
तुम्हारा है तो आएगा वो जाता है तो जाने दो।।

Comments

Popular posts from this blog

रेप और बलात्कार

भोजपुरी लोकगीत --गायक-मुहम्मद खलील