छेड़ मत बातें

छेड़ मत बातें पुरानी अनकही ।
फिर न जग जाएँ तमन्नायें वही।।
आज उन बातों के कुछ मतलब नहीं
वो सही या तुम सही या हम सही।।

Comments

Popular posts from this blog

रेप और बलात्कार

भोजपुरी लोकगीत --गायक-मुहम्मद खलील