कभी फुर्सत मिले तो याद करना। naa hq वक़्त मत बरबाद करना।।

कभी फुर्सत मिले तो याद करना।
बेवजह वक़्त मत बरबाद करना।।
कहाँ गुजरे हुए पल लौटते हैं
जहाँ जाना वो घर आबाद करना।।
तुम्हारे वार में तासीर कम है
तरीका कुछ नया इज़ाद करना।।

Comments

Popular posts from this blog

रेप और बलात्कार

शरद पवार को जबाब देना होगा

सेना को हर बार बधाई