Sunday, January 6, 2013

रेप और बलात्कार

रेप?
ये तो दिल्ली में होता हैं 
गाँव-गलियारों में 
हँसी -मजाक होती है ,छेड़छाड़ नहीं ।
अरहर और गन्ने के खेतों में 
बलात्कार नहीं होते,
परंपरा- निभाई होती है ।
वैसे भी बड़े आदमी से 
बुरा नहीं माना जाता ।
लीला को पाप तो ना बोल ,
फिर अपनी गैय्या
सम्हाल के क्यों नहीं रखते ?
गंवार कही के !!!
अरे छेड़छाड़ तो
दिल्ली में होती है,
वह भी मेट्रो में या बस में ।
और सुन !
बेटी से रोटी भिजवा देना थाने में
दरोगा जी कब के भूखे हैं ,
बेचारे!!

2 comments:

  1. बहुत खूब कहा

    http://ankushchauhansblog.blogspot.in/

    ReplyDelete
  2. अंकुश जी बहुत -बहुत धन्यवाद !!!!!!

    ReplyDelete